समान काम समान वेतन’ को लेकर सुप्रीम कोर्ट में अहम सुनवाई कल

बिहार के नियोजित शिक्षकों के समान काम समान वेतन की मांग को लेकर कल सुप्रीम कोर्ट मंें अहम सुनवाई होनी है। बिहार के तकरीबन 4 लाख नियोजित शिक्षकों को सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार है। बिहार परिवर्तनकारी शिक्षक संघ के प्रदेश महासचिव आनंद मिश्रा ने कहा कि समान काम समान वेतन के मुद्दे पर पटना हाइकोर्ट में अपनी जीत के बाद बिहार के नियोजित शिक्षक खुश थे कि उनकी पीड़ा, शोषण के दिन खत्म होंगे अब सरकार के द्वारा उनको भी नियमित शिक्षकों के समान पद, सम्मान और पैसा मिलेगा। वर्षों तक जिस आर्थिक, मानशिक और सामाजिक प्रताड़ना के शिकार हुए उसकी दासता से मुक्ति मिल गई। लेकिन बिहार सरकार ने इस फैशले के खिलाफ दिल्ली उच्चतम न्यायालय में स्पेशल लिव पेटिशन दायर कर दी और बिहार के नियोजित शिक्षकों के उम्मीदों पर जोरदार कुठाराघात किया । लेकिन बिहार के नियोजित शिक्षकों ने अपने संघर्ष जो जारी रखते हुए सुप्रीम कोर्ट में भी मजबूती से अपनी लड़ाई लड़ रहे है। सरकार के वकीलों के कुतर्को को नियोजित शिक्षक के वरिष्ठतम अधिवक्ता अपने तर्को और साक्ष्यों के माध्यम से विफल कर रहे हैन्यायमूर्ति उदय उमेश ललित के स्पेशल बेंच में बिहार के नियोजित शिक्षकों के समान काम समान वेतन केस की सुनवाई आखरी होगी। बिहार के नियोजित शिक्षकों की तरफ से पूरी तैयारी की गयी है। परिवर्तनकारी शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में टीम दिल्ली पहुँच चुकी है । संघ की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता और पूर्व कानून तथा विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद पक्ष रखेंगे।

Leave a Comment

47 + = 49