सीएम ने फिर कहा-‘शराबबंदी से नहीं होगा समझौता’

बिहार में शराबबंदी को फैसले को लेकर अक्सर सवाल उठाये जाते हैं। अक्सर यह कहा जाता है कि शराबबंदी फेल है। लेकिन शराबबंदी का फैसला लेने वाले बिहार के सीएम नीतीश कुमार के लिए यह महज एक फैसला नहीं बल्कि ऐसा लगता है जैसे एक जिद है। जिद शराबमुक्त सूबा बनाने का। आज उन्होंने फिर दुहराया कि चाहे कोई कितना हीं हमला करे, चाहे कोई जिंदा गाड़ दे लेकिन बिहार में शराबबंदी से कोई समझौता नहीं होगा। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से भी कहा कि शराबबंदी अभियान में गड़बड़ी करने वालों पर सख्त कार्रवाई का संकल्प लें. घच-पच न करें. लोगों से मिल कर उनको शराब, दहेज प्रथा और बाल विवाह के नुकसान और इन पर लगे प्रतिबंध के फायदे बताएं.मुख्यमंत्री मंगलवार को सम्राट अशोक कंवेंशन केंद्र के बापू सभागार में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती समारोह वर्ष के शुभारंभ पर आयोजित राज्यस्तरीय समारोह में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि दो अक्तूबर 2020 तक यह कार्यक्रम चलते रहेंगे. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि गांधी जी ने सात सामाजिक पाप की बात कहते हुए इनसे दूर रहने की सीख दी थी. इनमें सिद्धांत के बिना राजनीति, काम के बिना धन, विवेक के बिना सुख, चरित्र के बिना ज्ञान, नैतिकता के बिना व्यापार, मानवता के बिना विज्ञान और त्याग के बिना पूजा शामिल हैं. यह आज भी प्रासंगिक हैं.नीतीश कुमार ने कहा, यह धरती इंसान की जरूरत को पूरा करने में सक्षम है, उसके लालच को नहीं. मुख्यमंत्री ने कहा कि गांधी जी का जीवन ही उनका संदेश था. नयी पीढ़ी के 10-15 फीसदी लोग भी गांधी जी के विचार अपना लें, तो समाज का बदलाव हो जायेगा.

Leave a Comment

− 1 = 1