दैनिक पंचांग

13 – अक्टूबर – 2020
🪔  भारत

🪔तिथि
पुरुषोत्तमी एकादशी व्रत एकादशी प्रातः 10:05 तक🪔

🌹 14 अक्टूबर को एकादशी का पारण प्रातः 6:14 के बाद प्रारंभ🌹

🪔 नक्षत्र मघा 22:54
🪔 करण :
बालव 14:37🪔
🪔 कौलव 25:19
🪔 पक्ष कृष्ण
🪔 योग शुभ 17:40
वार मंगलवार

🪔 सूर्योदय 05:49
🪔 चन्द्रोदय 26:48
🪔 चन्द्र राशि सिंह
🪔 सूर्यास्त 17:25
🪔 चन्द्रास्त 15:16🪔
🪔 ऋतु शरद

🪔 शक सम्वत 1942 शार्वरी
🪔 कलि सम्वत 5122
🪔दिन काल 11:36🪔
विक्रम सम्वत 2077

🪔 मास आश्विन (अधिक)

🪔 अभिजित 11:14 – 12:00
🪔 दुष्टमुहूर्त 08:08 – 08:54
🪔 कंटक 06:35 – 07:21
🪔 यमघण्ट 09:41 – 10:27
🪔 राहु काल 14:31 – 15:58
🪔 कुलिक 12:46
🪔 कालवेला या अर्द्धयाम – 10:10
🪔
🪔
🪔 दिशा शूल उत्तर यात्रा अति आवश्यक हो तो गुड़ खाकर के लाल वस्त्र पहनकर के यात्रा प्रारंभ करें🪔

🪔 चन्द्रबल और ताराबल
🪔 ताराबल
🪔 अश्विनी, भरणी, कृत्तिका, मृगशिरा, पुनर्वसु, आश्लेषा, मघा, पूर्वा फाल्गुनी, उत्तरा फाल्गुनी, चित्रा, विशाखा, ज्येष्ठा, मूल, पूर्वाषाढ़ा, उत्तराषाढ़ा, धनिष्ठा, पूर्वाभाद्रपद, रेवती
🪔 चन्द्रबल
🪔 मिथुन, सिंह, तुला, वृश्चिक, कुम्भ, मीन

🪔 आज का सुविचार🌻

ध्यान का अर्थ है भीतर से मुस्कुराना
और सेवा का अर्थ है
इस मुस्कुराहट को औरो तक पहुंचाना

इस संसार में अनेक
कलांए हैं
लेकिन इन कलाओं में सबसे अच्छी कला है दूसरों के हृदय को छू लेना

🌻 सुप्रभात 🌻
🌻राधे राधे🌻

🌹 संतोष बाबा🌹
🌹9031088039🌹

Leave a Comment

95 − 87 =