जाप ने कृषि कानूनों के खिलाफ किया रेल चक्का जाम

पटना, 18 फरवरी: तीन कृषि कानूनों और बढ़ती पेट्रोल व डीजल की कीमतों के खिलाफ़ जन अधिकार पार्टी (लो) ने रेल चक्का जाम किया. सचिवालय हॉल्ट पर रेल चक्का जाम करने पहुंचे पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने कहा कि पिछले तीन महीनों से लाखों की संख्या में किसान दिल्ली बॉर्डर पर अपने अधिकारों की रक्षा के लिए आंदोलनरत हैं, लेकिन मोदी सरकार को कुछ फर्क नहीं पड़ रहा है. ऊपर से किसानों को किसानों को आतंकवादी, उग्रवादी और खालिस्तानी कहा जा रहा है.

आगे उन्होंने कहा कि भारत के निर्माण में सबसे बड़ी भूमिका किसानों और मजदूरों की है. पहले लॉकडाउन के समय मजदूरों को मरने के लिए छोड़ दिया गया और अब किसानों को आर्थिक रूप से बर्बाद करने की पूरी तैयारी कर ली गयी है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को सिर्फ अंबानी और अडानी की चिंता हैं. उन्हें किसानों, मजदूरों और देश की गरीब जनता से कोई मतलब नहीं है.

केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए पप्पू यादव ने कहा कि पेट्रोल, डीजल और गैस की कीमत इतनी बढ़ गई है कि आम आदमी का जीना मुहाल हो गया है. गैस पर मिलने वाली सब्सिडी को खत्म कर दिया गया. सरकार के गलत फैसलों से जनता त्रस्त है, इसलिए आज हम जनता की आवाज़ को उठाने के लिए रेल चक्का जाम कर रहे हैं. इससे सरकार को एक कड़ा संदेश जाएगा. देश के किसान जब भी नारा देंगे तब हम उनके साथ रहेंगे.

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राघवेन्द्र सिंह कुशवाहा ने कहा कि आज राजधानी पटना समेत प्रदेश भर में जिला इकाईयों ने रेल चक्का जाम कर किसानों के समर्थन में आवाज बुलंद की. हमारी यह लड़ाई आगे भी तब तक जारी रहेगी जब तक तीनों कृषि कानून रद्द नहीं कर दिए जाते और सरकार एसएसपी पर कानून नहीं बनाती.

चक्का जाम में शामिल होने के लिए राघवेन्द्र सिंह कुशवाहा सहित पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव प्रेमचन्द सिंह, राजेश रंजन पप्पू, राजू दानवीर, हरे राम महतो,वरुण और अभिजीत को रेल प्रशासन ने हिरासत में ले लिया. इस दौरान महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष रानी चौबे, आज़ाद चाँद समेत बड़ी संख्या में पार्टी के कार्यकर्ता उपस्थित थें.

Leave a Comment

− 3 = 3