चिराग तले अंधेरा

जमुई से विक्रांत कुमार की रिपोर्ट :-

जमुई जिला लक्ष्मी पुर श्री श्री बाबा सबालाख मंदिर में रुकते हैं प्रतिदिन हजारों कावरियाँ पर सरकार के तरफ से कोई सुविधा नहीं ।जमुई जिले के लक्ष्मीपुर जंगल से होते हुए सुल्तानगंज के रास्ते मे बाबा सवालाख का छोटा सा मंदिर हैं जहाँ प्रतिदिन हज़ारों कवरियाँ रुक कर माथा टेकते हैं कहा जाता हैं कि दर पे जो कवरियाँ भाई गाड़ी रोक कर माथा ठेक कर बाबा बैजनाथ का दर्शन करने जाते हैं उसकी सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और यह भी कहा जाता हैं कि अगर कवरियाँ गाड़ी नजर अंदाज कर के बिना माथा टेके गुजर जाती हैं तो अनहोनी हो जाती हैं यही कारण हैं कि हजारों कवरियाँ इस रास्ते से गुजरते समय यहाँ रुक कर माथा टेकते हैं और फिर बाबा बैजनाथ के द्वार जा कर दर्शन करते हैं ।  बाबा सवालाख का मंदिर जमुई जिले के लक्ष्मीपुर 8NH पर हैं यह स्थान दोनो तरफ से जंगलों से घिरा हुआ हैं एकदम सुनसान जगह होते हुए भी कवरियाँ भाई यहाँ बाबा के दर्शन को रुकते हैं लेकिन सरकार के तरफ से न तो इनकी सुरक्षा के लिए कोई चेकपोस्ट तैयार किया गया न तो कोई पुलिस की तैनाती की गईं एक तो एक सुनसान जगह होने के कारण कोई दुकान तक नहीं हैं पानी की भी बहुत किल्लत  हैं कवरियाँ भाई के लिए एक दो हैंड पम्प हैं लेकिन सब के सब खराब हैं युवा सांसद चिराग पासवान का ये क्षेत्र है। आनेवाले चुनाव में जहाॅं सभी नेता भगवान की शरण में जा रहें वहीं श्रीश्री बाबा सबालाख अपने क्षेत्र के सांसद से अछूते कैसे हैं, शायद इसे ही चिराग तले अंधेरा कहा जाता है।

Leave a Comment

42 − 40 =