कांग्रेस भारत में पाकिस्तान और चीन के हितों की राजनीति करती है : अरविन्द सिंह

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अरविन्द कुमार सिंह ने कहा है कि कांग्रेस भारत में पाकिस्तान और चीन के हितों की राजनीति करती है।  2014 के बाद जहां-जहां भी भारत की सीमा पर अतिक्रमण करने का प्रयास हुआ, भारत तुरंत जवाबी कार्रवाई की है। हमारे देश की सीमाओं और हमारे जवानों को कोई हल्के में नहीं ले सकता, ये संदेश भारत ने दुनिया को दिया है।
देश के नेताओं समेत सभी 130 करोड़ लोग रात को चैन से इसलिए सो पाते हैं, क्योंकि हमें देश की सीमा की सुरक्षा कर रहे जवानों पर भरोसा है।
बॉर्डर पर सीएपीएफ के जवानों ने पूरी मुस्तैदी से मोर्चा संभाला है।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के सत्ता संभालने के पश्चात् देश के रक्षा क्षेत्र में बुनियादी परिवर्तन आया है। भारतीय सेना के तीनों अंगों की ताकत बढ़ी है। कांग्रेस कार्यकाल में भारतीय फ़ौज की ख़राब हालात थी पहले पाकिस्तान से जब सीमावर्ती क्षेत्रों में गोलीबार होती थी तो दिल्ली तक संदेश पहुँचने में बहुत समय लगता था और दिल्ली से भी केवल “वेट और वाच” का संदेश दिया जाता था। अब समय बदला है, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने स्पष्ट निर्देश दिया है कि पाकिस्तान से सीमा पर गोलीबरी होती है तो तुरंत करारा जवाब दिया जाये, अब दिल्ली से ऑर्डर लेने की कोई जरूरत नहीं है।प्रधानमंत्री मोदी जी ने कहा है कि “हम न किसी से आंख झुकाकर बात करेंगे, ना ही आँख उठा कर बात करेंगे, हम आंख में आंख डालकर बात करेंगे”। सर्जिकल स्ट्राइक हो या एयर स्ट्राइक, प्रधानमंत्री जी ने स्पष्ट कर दिया है कि भारत अपनी सरहदों की सुरक्षा के लिए कृतसंकल्पित है।

श्री अरविन्द ने कहा है कि श्री नरेन्द्र मोदी जी के कार्यकाल में 36 राफेल लड़ाकू विमानों को भारतीय वायु सेना में शामिल किया गया है। 28 अपाचे हेलीकॉप्टर और 15 चिनूक हेलिकॉप्टर खरीदे गए हैं। एमआरएसएएम (MRSAM) और आर्टिलरी गन खरीदी गई हैं। 1.86 लाख बुलेट प्रूफ जैकेट बने हैं। 5 लाख असॉल्ट राइफलें भी लाई गई हैं। S 400 मिसाइल , A K 203 राइफल्स भी लिए गए है।
2008 में मुंबई पर आतंकी हमला और 170 देशवासियों की जान लेने के बाद भी कांग्रेस ने पराक्रमी भारतीय सेना के हाथ बाँधे रखे थे , लेकिन आठ साल बाद जब पुलवामा में आतंकी हमला हुआ और 44 जवान शहीद हुए , तब मा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने सेना – वायुसेना को पूरी छूट दी और पड़ोसी की सीमा में घुस कर ऐसा सर्जिकल स्ट्राइक किया गया कि पाकिस्तान घुटनों के बल आ गया।

वहीं दूसरी ओर देश जब मा प्रधानमंत्री जी के फैसले और सेना के शौर्य पर गर्व कर रहा था, तब कांग्रेस और उसके दोस्त सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत माँग रहे थे। आज भी कांग्रेस के लिए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री बड़ा भाई ” है , भारत के देशभक्त संगठन उन्हें आतंकी आइएसआइएस जैसे लगते हैं और राहुल गाँधी हिंदुत्व को हत्यारा बताते हैं । लीडर और रीडर में बहुत अंतर होता है। अगर आप चुनाव से 4 महीने पहले आए हैं, तो आप  लीडर नहीं, रीडर हैं। जिन नेताओं ने कभी मंदिर दर्शन नहीं किया वो आज कल चंदन लगा कर भाषण दे रहे हैं।

Leave a Comment

26 − 25 =