अर्जित ने कोविड-19 पर वर्चुअल बैठक में भाग लिया और भागलपुर की बात रखी।

राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य भाजयूमो सह पूर्व प्रत्याशी भागलपुर विधानसभा अर्जित शाश्वत चौबे ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री भारत सरकार अश्विनी चौबे द्वारा आयोजित वर्चुअल बैठक- “बिहार में कोविड-19 की स्थिति एवं बचाव” में भाग लिया एवं भागलपुर में निजी अस्पतालों में इलाज कराने के लिए अपनी सलाह दिया।

अर्जित ने कहा कि जिस प्रकार बिहार में कोविड-19 का संक्रमण बढ़ रहा है, यह अत्यंत आवश्यक हो गया है कि सजगता के साथ बिहार सरकार का स्वास्थ्य विभाग कोरोना टेस्टिंग को अधिक से अधिक करे एवं इसके लिए पीपीपी मोड़ पर निजी कंपनियों के साथ भी अग्रीमेंट करे। इसके साथ ही मरीजों के स्वास्थ्य परामर्श एवं चिकित्सा के लिए सरकारी व्यवस्था के अलावा निजी अस्पतालों को भी सम्पूर्ण बिहार में कोविड-19 मरीजों का इलाज करने का आदेश दे। उन्होंने कहा कि केवल कुछ बेड अलाट करने से संक्रमण बढ़ सकता है इसलिए सम्पूर्ण अस्पताल को डेडिकेटेड अस्पताल में परिणत करना लाभकारी सिद्ध होगा। उन्होंने बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे से भी पूर्व में बात करके निजी अस्पतालों एवं निजी चिकित्सकों के माध्यम से करने का आग्रह किया था। उन्होंने भारत के विशिष्ट अस्पतालों के डॉक्टरों से भी वालंटियर सर्विस प्रदान करवाने की पहल के लिए केंद्रीय मंत्री से आग्रह किया।

अर्जित ने कहा कि वर्चुअल बैठक में वैश्विक कोरोना महामारी के बिहार में बढ़ते प्रभाव एवं बचाव के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री श्री अश्विनी कुमार चौबे द्वारा आयोजित वर्चुअल बैठक में लंदन, जर्मनी, आबू धभी और भारत के चिकित्सकों के साथ बिहार के चिकित्सकों ने विचार विमर्श किया जिसमे लंदन के विशिष्ट सर्जन लाल बहादुर मंडल, जर्मनी से डॉ फ्रैंक, डॉ सारिका, अबू धभी से डॉ आनंदमई सिन्हा, दिल्ली के विशिष्ट चिकित्सक डॉ कामेश्वर, पटना से डॉ शारिका राय, डॉ सुमन कुमार, डॉ लक्ष्मी झा, डॉ प्रतिभा मिश्रा, डॉ उषाकिरण वर्मा, डॉ बिंदु सिन्हा, रेड क्रॉस से डॉ पुनिधा कालियापेरु, सेमी के डॉ तमोरिष कोले, डॉ तारिक खान, डॉ रविकांत सिंह, डॉ पारसनाथ सिंह, डॉ इन सी साह, डॉ मिथिलेश झा, कोलकत्ता से डॉ गोमा आदि ने अपनी बात रखी।

Report by: Vivek Kumar

Leave a Comment

− 2 = 1