लक्ष्य निर्माण

 यदि आप काम की तलाश में लक्ष्य विहीन होकर सड़क पर निकल पड़े हैं और इसी बीच में किसी राहगीर से पूछते हैं यह सड़क मुझे कहां ले जाएगी तो इसके उत्तर में वह आपसे पहले यह प्रश्न करेगा आपको जाना कहां है जब आप उसे कोई निश्चित स्थान बताएंगे तभी वह आपका सही मार्गदर्शन कर सकेगा अन्यथा आप एक लक्ष्य विहीन की तरह इधर-उधर घूमते रहेंगे आसपास है बिना लक्ष्य तय किए किसी कार्य में हमारी सफलता सुनिश्चित नहीं हो सकती लक्ष्य बना लेने से हमारे अंदर लगन शक्ति का विकास होता है जो हमें कार्य के उस बिंदु तक सक्रिय रहती है जहां पर पहुंचकर हम विजेता बनते हैं।
लक्ष्य निर्धारण की प्रक्रिया भारत में प्राचीन काल से चली आ रही है महाभारत का वह प्रसंग निश्चित आपको याद होगा जिसमें गुरु द्रोणाचार्य ने एक लकड़ी की चिड़िया को एक पेड़ की ऊंची टहनी पर रखकर अपने शिष्यों से कहा तुम्हें उस चिड़िया की आंख पर निशाना लगाना है लेकिन पहले यह बताओ कि तुम्हें क्या दिखाई दे रहा है इस प्रश्न के उत्तर में एक शिष्य बोला गुरूजी पेड़ पत्ते, दूसरा शिष्य बोला आकाश, तीसरा का उत्तर था चिड़िया इत्यादि । जब अर्जुन की बारी आई तब उसने कहा गुरु जी मुझे सिर्फ चिड़िया की आंख दिखाई दे रही है। यह सुनकर गुरु ने उस से तीर चलाने को कहा अर्जुन का तीर सीधा चिड़िया की आंख में जाकर लगा जो उसका लक्ष्य था।
यदि आपने अपने कार्य लक्ष्य का निर्धारण कर लिया है तो उस पर अपनी दृष्टि निरंतर बनाए रखें जब तक उस लक्ष्य का सफल भेदन ना हो जाए।
जीवन और देश के पूर्ति के लिए कार्य लक्ष्यों की एक श्रृंखला होती है अर्थात एक लक्ष्य पूरा करने के बाद दूसरा सामने आता है जब आप उसे भी पूरा कर लेते हैं तब अगला लक्ष्य आपके सामने होता है और इस प्रक्रिया प्रक्रिया हमेशा चलती रहती है जैसे जब आप किसी ट्रेन या बस से यात्रा करते हैं और टिकट पर अंकित गंतव्य स्थान के स्टेशन पर उतरते हैं तब आपको यह मालूम होता है आगे कहां जाना है इसी तरह से लक्ष बनाना भी एक के बाद एक उठाए गए कदमों का नतीजा है लक्ष्मण के द्वारा ही आप निर्धारित मंजिल तक पहुंचते हैं अतः जरूरी है कि आप लक्ष्यों को छोटे-छोटे हिस्सों में बांट लें जिससे आप उन्हें आसानी से पूरा कर सकें। यह लक्ष्य शॉर्ट टर्म ,मी मिड टर्म और लॉन्ग टर्म के रूप में बनाए जा सकते हैं ।यह ध्यान में रहे के लंबे समय वाला लक्ष्य जीवन का उद्देश्य बन जाता है क्योंकि इसका ध्यान रखकर आप अन्य लक्ष्यों को आसानी से हासिल कर सकते हैं।

Leave a Comment

+ 31 = 32