नॉलेजग्राम इंटरनेशनल स्कूल पटना में अभिभावक जागरण अभियान का हुआ आयोजन

पटना : नॉलेजग्राम इंटरनेशनल स्कूल पटना में अभिभावक जागरण अभियान का हुआ आयोजन, बड़ी संख्या में अभिभावक कार्यकर्म में हुए शामिल
पटना : राजधानी पटना के भूतनाथ रोड , बाईपास नन्दलाल छपरा में स्थित नॉलेजग्राम इंटरनेशनल स्कूल, पटना के द्वारा पटना के बाज़ार समिति में एक अभिभावक जागरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए निदेशक डॉ सी बी सिंह ने बताया कि नॉलेजग्राम इंटरनेशनल स्कूल पटना का एक ऐसा पहला विद्यालय है जिसमें छात्रों को उनकी अभिरुचि की पहचान करने के बाद उनके अनुसार ही उनका शिक्षण किया जाता है। कक्षा में उपस्थित हर बच्चा अलग अलग पोटेंशियल रखता है व उसे वास्तविक मनुष्य बनाने के लिये उसकी दैव जनित क्षमताओं को जानना बहुत जरूरी है। यह हिंदुस्तान का एकमात्र ऐसा विद्यालय है जिसमें बच्चों का शिक्षण सुबह साढ़े चार बजे से शुरू हो जाता है और शाम में बच्चों के दिनभर की डाऊट को क्लियर करने के बाद तक चलता है। हमारे बच्चों के लिये किसी भी तरह की कोचिंग या ट्यूशन की पूर्ण मनाही है। पूरी तरह से आज के स्कूली शिक्षा जगत में यह विद्यालय एक आंदोलन है। कार्यक्रम में स्कूल की प्राचार्या श्रीमती राधिका के ने बताया कि हमारा विद्यालय वास्तव में एक कॉन्सेप्ट स्कूल है जो पिछले वर्ष इसकी शुरुआत होने के बाद सबसे कम समय में 10+2 लेवल तक सीबीएसई दिल्ली द्वारा एफिलिएट हुआ है। सही मायनों में हमारा विद्यालय में न सिर्फ़ छात्रों को शिक्षण कराया जाता है बल्कि इनका स्किल प्रशिक्षण भी कराया जाता है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गणित के प्रख्यात विद्वान मोहम्मद उमर सिद्दीकी जी ने बताया कि आज जरूरत है कि बच्चों को ऐसे शिक्षण दिया जाये कि वे न सिर्फ़ किताबी ज्ञान लिखें व पढ़ें बल्कि वे उस ज्ञान को अच्छी तरह से समझते हुए जानें व उनको सीखें। विद्यालय के चेयरमैन श्री रवींद्र सिंह राठौर ने कहा कि यह इस तरह का अकेला विद्यालय है जहाँ बच्चों में छिपी हुई क्षमताओं को पहचानने के बाद उनका शिक्षण कराया जाता है।

कार्यक्रम में उपस्थित जी डी गोयनका पब्लिक स्कूल गया के प्राचार्य व नॉलेजग्राम इंटरनेशनल स्कूल ,पटना के मार्गदर्शक मंडल के सदस्य डॉ हिमांशु पाण्डेय ने बताया कि यह विद्यालय बिल्कुल अलग तरह का विद्यालय है जिसमें न सिर्फ़ छात्रों को प्रशिक्षित किया जाता है वरन आवश्यकता पड़ने पर उनके अभिभावकों का भी प्रशिक्षण व अपने बच्चों के पोषण व लालन पालन से सम्बन्धित परामर्श भी कराया जाता है।

 

Leave a Comment

76 − 72 =