पप्पू यादव होंगे पीडीए के सीएम उम्मीदावार

जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन (पीडीए) के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार होंगे। यह घोषणा पीडीए में शामिल एसडीपीआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष एम के फैजी, आजाद समाज पार्टी के अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद और अन्य घटक दलों के नेताओं ने एक संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में की।

इस अवसर पर चंद्रशेखर आजाद ने कहा कि पप्पू यादव के नेतृत्व में पीडीए बिहार में परिवर्तन की शुरुआत कर रहा है। उन्होंने कहा कि इनके मुख्यमंत्री बनने से बिहार में दलितों-मुसलमानों और अन्य कमजोर वर्गों के लोगों को सुरक्षा मिलेगी। उन्होंने आरोप लगाया कि बिहार में कमजोर वर्ग असुरक्षा में जी रहा है।

जाप अध्यक्ष और सीएम के लिए नामित पप्पू यादव ने पीडीए का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सुरक्षित और मुस्कुराता बिहार उनकी प्राथमिकता होगी। उन्होंने इसके लिए पीडीए को समर्थन देने की अपील की। उन्होंने कहा कि मां-बहन-बेटी को सुरक्षा देना पीडीए के प्रतिज्ञा पत्र में पहले स्थान पर है। हर जरूरी जगह पर सीसीटीव कैमरा लगवाया जाएगा। पीडीए जातीय और साम्प्रदायिक दंगों को किसी हाल में बर्दाश्त नहीं करेगा

पप्पू यादव ने वादा किया कि उनके मुख्यमंत्री बनने के बाद अगर बिहार से पलायन नहीं रुका तो वे इस्तीफा दे देंगे। उन्होंने बिहार में बेहतरीन अस्पताल और स्कूल बनवाने का भी वादा किया। उन्होंने कहा कि फूड प्रोसेसिंग, शाहाबाद के धान, सीमांचल-मिथिला के माछ-मखान और मगध के पान से बिहार की जिंदगी बदल सकते हैं। साथ ही उन्होंने केला-लीची और जूट-गन्ना की खेती और इसपर आधारित उद्योग को बढ़ावा देने की बात भी कही।

जाप अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि पिछले 30 सालों में ‘दोनों भाइयों‘ ने बिहार के किसानों की जिंदगी बर्बाद कर दी। बाजार समिति खत्म कर दी गयी। उन्होंने कहा कि यदि सरकार बनी तो इसे बहाल किया जाएगा और हर अनुमंडल में कोल्ड स्टोरेज खोला जाएगा। उन्होंने बिहार में प्रति व्यक्ति कम आय के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जिममेदार ठहराया।

पप्पू यादव ने तीन महीने के अंदर बिहार में लोकपाल की व्यवस्था करने और इसके दायरे में मुख्यमंत्री को लाने का वादा किया।

उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा नीतीश कुमार को और नीतीश कुमार भाजपा को हराने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ऊंची जाति को लालू प्रसाद का डर दिखाना बंद करें और भाजपा दलितों और मुसलमानों को डराना बंद करे।

पप्पू यादव ने भाजपा नेताओं से पूछा कि जब नीतीश कुमार ने पटना यूनिवर्सिटी को केन्द्रीय विश्वविद्यालय बनाने का आग्रह किया तो प्रधानमंत्री मोदी ने उसे क्यों नहीं स्वीकार किया? उन्होंने राज्य सरकार से चमकी बुखार से बच्चों की मौत, 56 लाख बाढ़ पीड़ितों और अन्य मामलों पर सवाल पूछे।

एसडीपीआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष एम के फैजी ने कहा कि हमारा गठबंधन बिहार की जनता का स्वभाविक गठबंधन हैं। हमलोग पप्पू जी के नेतृत्व में बिहार में सरकार बनाएंगे। मौके पर बहुजन मुक्ति अगाड़ी और अंसारी पंचायत सहित सभी घटक दल मौजूद थे।

report by; vivek kr. yadav

Leave a Comment

84 + = 86