चन्द्रशेखर बाबू का संघर्ष भरा जीवन सभी के लिए प्रेरणादायी-पारस

पटनाः लोक जनषक्ति पार्टी प्रदेष कार्यालय में देष के पूर्व प्रधानमंत्री महान समाजवादी नेता चन्द्रषेखर जी की 91 वीं जयंती लोक जनषक्ति पार्टी प्रदेष अध्यक्ष व पशु एवं मत्स्य संसाधन मंत्री श्री पशुपति कुमार पारस की अध्यक्षता में मनायी गयी। इस अवसर पर उनके तैल्य-चित्र पर माल्यार्पण एवं श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए श्री पारस ने कहा कि श्री चन्द्रषेखर बतौर सांसद देष के पहले ऐसा नेता थे जिन्होंनें सीधे प्रधानमंत्री जैसे उच्च पद को सुषोभित किया और एक कुषल राजनेता के रूप में इस महान पद पर बैठकर अमिट छाप छोड़ी। वे जीवनपर्यन्त समाज में बदलाव और खासकर दलित एवं वंचित वर्गो के हितों के लिए संघर्षरत रहे। श्री पारस ने कहा कि श्री चन्द्रषेखर की एक प्रमुख विषेषता थी वह गम्भीर मुद्दो पर सिंह के समान गरजना करते हुए बोलते थे उनकी वाणी में इतनी शक्ति होती थी कि जब संसद मछली बाजार बन रहा होता था तो वहाँ पर उनके बोलने पर सन्नाटा पसर जाता था। श्री चन्द्रषेखर को मुद्दो एवं मूल्यों की राजनीति के लिए जाना जाता है यही कारण है कि देष के सभी दल और सभी नेता के साथ उनके मधुर संबंध रहे और सबो ने उनको सम्मान और आदर देने का काम किया। श्री पारस ने आगे कहा कि विधाता किसी-किसी इंसान को विषेष योग्यता देकर पृथ्वी पर भेजता है और चन्द्रषेखर का शुमार ऐसे ही व्यक्तित्व के रूप में करना चाहिए। एक युवा तुर्क के रूप में उनके उद्वात विचार, अदम्य साहस एवं सभी वर्गो के लिए निहित स्वार्थो के विरूद्ध उनकी निष्ठापूर्ण लड़ाई एवं संघर्ष भरा जीवन हमारे लिए हमेषा प्रेरणादायी रहेगा।
इस अवसर पर लोक जनषक्ति पार्टी के महासचिव डाॅ0 सत्यानन्द शर्मा, पूर्व विधान पार्षद विनोद सिंह, प्रदेष उपाध्यक्ष अंबिका प्रसाद बिनू, प्रदेष महासचिव सह प्रवक्ता श्रवण कुमार अग्रवाल, बिरेष्वर सिंह, सत्येन्द्र सिंह, प्रदेष प्रवक्ता अषरफ अंसारी, विष्णु पासवान, महताब आलम, रंजीत कुमार, युवा लोजपा राष्ट्रीय महासचिव मनीष आनंद, दिनेष पासवान, युवा लोजपा महासचिव चन्दन सिंह, निरंजन सिंह, चन्दन कुमार सिंह सहित लोजपा पदाधिकारियों ने प्रदेष कार्यालय में श्री चन्द्रषेखर सिंह जी के तैल्य-चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित कर उनके जीवनी पर प्रकाष डाला।

Leave a Comment

64 − = 59