राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री से न्याय नही मिला तो कजारी इंफ्राटेक प्रा.लि. के मालिक डॉ सतीश प्रसाद के हत्या करने पर विवश होना पड़ेगा : राठौर

पटना : अखिल भारतीय अपराध विरोधी मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष धनवंत सिंह राठौर ने आज पटना में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में घोषणा कि अगर वेवसाइट में छेड़छाड़ कर मेरे व मेरे पत्नी नीतू सिंह राठौर व परिवार के अन्य सदस्यों के नाम पर कजारी इंफ्राटेक प्रा.लि. के मालिक डॉ सतीश प्रसाद द्वारा मेरे लाभ के करीब दो करोड़ रूपये से अधिक की बेईमानी की जांच कराकर मुझे पैसा वापस नही हुआ तो डॉ सतीश प्रसाद की हत्या करने पर विवस हो जाऊंगा। इस सम्बंध में श्री राठौर ने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, केन्द्रीय गृह मंत्री, बिहार के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, मुख्यसचिव व डीजीपी को पत्र लिखकर इसकी जानकारी दे दी है।

श्री राठौर ने संवाददाताओं को बताया कि कजारी इंफ्राटेक प्रा. लि. के मालिक डॉ सतीश प्रसाद जनवरी 2015 में अखौरी प्रसाद और अरुण कुमार के साथ मेरे कार्यालय में आकर जे पी पुल के उस तरफ सारण जिले के परमानन्दपुर में बन रहे टाऊनशिप में नेटवर्किंग के द्वारा जुड कर कार्य करने का आफर दिया।मै अपनी टीम के साथ इसमे जुड़ कर लगभग 500 से अधिक प्लॉट को बेच दिया। इस पर मिलने बाले सभी लाभ साल 2017 तक मिला। उसके बाद डॉ सतीश प्रसाद के द्वारा कम्पनी में की जा रही भर्ष्टाचार की जानकारी हमे मिली तो मैंने आपत्ति की तो डॉ सतीश प्रसाद ने मिलने बाली लाभ पे आउट, रिवार्ड को 2018 से अधिकांश राशि अभी तक दिया ही नही। मेरी पत्नी नीतू सिंह राठौर द्वारा और मेरे टीम के अन्य कई सदस्यों ने जो प्लॉट बुक कराई थी, उन्हें भी पे आउट, रिवार्ड नही दे रहा है। उल्टे कम्पनी के वेबसाइट में छेड़छाड़ कर सब गायब कर दिया। श्री राठौर ने कहा कि केवल मेरा और मेरी पत्नी नीतू सिंह राठौर का ही रिवार्ड और पे आउट आमदनी दो करोड़ रुपये से अधिक कम्पनी पर निकलता है। डॉ सतीश प्रसाद ने कम्पनी के सॉफ्टवेयर में छेड़छाड़ कर अधिकांशका रफा दफा कर अब पैसा देने से इंकार कर रहा है।

श्री राठौर ने अपने पत्र में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, केन्द्रीय गृह मंत्री, बिहार के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, मुख्यसचिव व डीजीपी सभी सेयही सवाल किया है कि अब उनके पास क्या चारा बचता है। श्री राठौर ने बताया कि उन्होंने कई लोगो से कर्ज लेकर कजारी इंफ्राटेक और अन्य व्यबसाय का कार्य कर रहा है। कर्जदार हमेशा मेरे पास अपने पैसे के लिये आ रहे है। मेरा दो करोड़ रुपये से अधिक डॉ सतीश प्रसाद सॉफ्टवेयर में छेड़छाड़ कर बेईमानी से रख लिया है। ऐसी परिस्थिति में मेरे सामने उसकी हत्या करने के सिवाय और कोई चारा नही बचता है।

कानूनी लड़ाई इतनी लंबी चलती है कि अगर मैं कर्जदारों को पैसा नही दिया तो तनावपूर्ण बाताबरण कायम हो सकता है। डॉ सतीश प्रसाद चाहता ही है कि मैं केश मुकदमा करू और वो मेरे ही पैसे से दस बीस लाख खर्च कर मामले को अदालत में ले जाये और लंबा खिंच ले तब तक यही होगा कि मैं या डॉ सतीश में से किसी की मृत्यु हो जाय सब समाप्त हो जाय।इसलिये अगर राष्ट्रपति प्रधानमंत्री केन्द्रीय गृह मंत्री, बिहार के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, मुख्यसचिव व डीजीपी से हमारे आरोपो की जांच नही हुई और मुझे न्याय नही मिला तो डॉ सतीश प्रसाद जैसे फ़्रॉड की हत्या करने पर विवस हो जाऊंगा। संवाददाता सम्मेलन में उपस्थित मोर्चा के नेताओं में राहुल कुमार, चन्दन झा, संजय कुमार सिंह, अजय कुमार सिंह, आलोक कुमार आदि प्रमुख थे।

Report by: Vivek kr.

इसे भी पढ़े –कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग

Leave a Comment

− 6 = 1