श्री लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाला में फसाने का काला सच

कर्नाटक के पूर्व DGP एवं चारा घोटाला के मुख्य जांच अधिकारी एपी दुराई (IPS)ने अपनी आत्मकथा “परसूट आफ ला एंड आर्डर “( pursuit of low and order)में अध्याय 26″द सीबीआई वरसेज लालू प्रसाद यादव (The cbi vs lalu Prasad yadav)में पेज 230,231’232मे लिखा है कि cbiने अपने द्वारा दायर 49मुकदमो में से 7 में लालू प्रसाद यादव को मुजरिम बनाया है उन्होंने लिखा है कि लालू प्रसाद यादव एवं कुछ ias को फंसाने का गंभीर षडयंत्र किया गया! देश की न्यायिक प्रनाली में ऐसा होना ठीक नहीं है मीडिया ने भी लालू प्रसाद यादव को बिना मुजरिम सिद्ध हुए खुद ही ट्रायल कर उन्हें अपराधी घोषित कर दिया | IPS अधिकारी एपी दुराई की यह स्वीकारोक्ति इस देश के बहुजन, शोषित, दलित समाज को हजार वर्षेो से अपराधी, नकारा, असुर, राक्षस घोषित करने की निकृष्ट परंपरा को उद्घाटित करता है | एपी दुराई साहब ने जो कुछ भी अपनी किताब में खुद की आत्मकथा में लिखा है वह वंचित समाज की ऐसी व्यथा की कथा है जो शायद ही सुनने को मिले | यह देश और इस देश का तथाकथित बुद्घिजीवी जो सदैव ही परजीवी रहा है (कमरो,/अर्जको /उत्पादको की कमाई का) वह सर्वदा ही श्रम करने वालो को हिकारत की नजरो से देखता रहा है |और गाहे-बगाहे जब भी मौका पाया है उन्हें अपमानित व लांछित करने का कुकर्म किया है. जिसका एक घृणित उदाहरण लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाला में फंसाने का गंभीर षडयंत्र करना है |
एपी दुराई ने जो इस पशुपालन घोटाला के मुख्य जांच अधिकारी थे, स्पष्ट किया है कि लालू प्रसाद यादव को व कुछ IAS अधिकारी को फंसाने की गहरी साजिश हुई | आखिर लालू जी को फंसाने की साजिश क्यों हुई? आखिर वह लालू प्रसाद यादव जिन्होंने शिवहर कोषागार में हुए खेल का खुलासा कर रपट दर्ज कराया वही लालू प्रसाद यादव मुजरिम कैसे और कयों हो गये? वह जगरनाथ मिश्र जिसने इस पशुपालन घोटाला का सृजन किया वह चारा चोर न होकर पंडित जगरनाथ मिश्र हो गये और पूरे खेल को उजागर करने वाले लालू प्रसाद यादव चारा चोर हो गये ?अदभुत व्याख्या है इस देश का |
लालू प्रसाद यादव का अहीर /पिछड़ा होना ही उन्हें अपराधी घोषित करने के लिए काफी था |CBI द्वारा लालू को क्रश करने की योजना को मूर्त रुप दिया गया कयोंकि लालू प्रसाद यादव इस देश की हजारों वर्ष पुरानी सनातन एवं जड़ हो चुकी व्यवस्था को चुनौती दे दिया |लालू जी ने रामरथ रोक दिया था |और लालू जी ने आरक्षण के लिए पुरजोर जोर लगा दिया था |लालू जी ने मंडल कमीशन को लागु करवाने के लिए अपनी सारी पूंजी /ताकत झोक डाली |उन्होंने देश के सबसे बड़े वकील रामजेठमलानी को मंडल कमीशन के केस का वकील हायर कर सुप्रीम कोर्ट में इसे लेकर लड़ाई लड़ने का कार्य किया |लालू प्रसाद यादव ने बिहार में मनहीनो को भी जीवंतता दी |दमित -पीड़ित लोग अब लालू जी के कारण बोलने लगे |
लालू प्रसाद यादव वर्तमान राजनैतिक परिदृश्य के ऐसे महानायक है जिन्हें घटा करके कोई राजनीतिक गठबंधन नहीं हो सकता है | लालू जी सामाजिक न्याय और सांप्रदायिक सदभावना के लिए अपरिहार्य है | वर्तमान में लालू प्रसाद यादव के मान मर्दन का लगातार प्रयास जारी है |

अनिल कुमार ओबीसी बामसेफ

Leave a Comment

+ 12 = 15