दारोगा बनने की तैयारी में जुटे ट्रांसजेंडर्स

 पटना;-पटना हाइकोर्ट में सरकार ने किन्नरों के रिजर्वेशन को लेकर जवाब दिया था कि सरकार ने किन्नरों को रिजर्वेशन दिया है. जब भी पुलिस बल की बहाली होगी, तो हर जिले में एक एसआई और 4 कॉन्स्टेबल के पदों पर किन्नरों की नियुक्ति की जाएगी. बिहार में किन्नरों की आबादी लगभग 40 हजार के करीब है. अब बिहार सरकार ने पुलिस की नौकरियों में किन्नर समाज के लिए लगभग 1% का आरक्षण दिया है. पटना के गोपाल मार्केट में चलने वाले शिक्षण संस्थान अदम्य अदिति गुरुकुल में दारोगा की तैयारी करने के लिए क्लास ज्वाइन की हुई ट्रांसजेंडर अनुप्रिया ने बताया कि बिहार पुलिस की नौकरी के लिए किन्नर समाज को आरक्षण देने का सरकार का फैसला किन्नरों के उत्थान के प्रति एक बहुत बड़ा कदम है. उन्होंने कहा कि किन्नर समाज बहुत पहले से ही स्टिग्मा और डिस्क्रिमिनेशन झेलते आ रहे हैं.

साल 2020 के दिसंबर में बिहार सरकार की एक वैकेंसी आई थी. जिसमें ट्रांसजेंडर के लिए कॉलम गायब था. जिसके बाद उनके समाज से एक एक्टिविस्ट ने पटना हाईकोर्ट में पीआईएल दायर किया. जिसके बाद ये फैसला आया कि ट्रांसजेंडर को भी रिजर्वेशन देना अनिवार्य है.पहले बिहार सरकार के वैकेंसी में किन्नर समाज के लिए कोई कॉलम नहीं रहता था. ऐसे में काफी संख्या में पढ़े-लिखे किन्नर भी नौकरी से वंचित रह जाते थे.बिहार पुलिस की बहाली में महिलाओं के लिए निर्धारित पैमाने पर ही किन्नरों की नियुक्ति होगी. किन्नर समाज के लिए सरकार के इस फैसले से समाज काफी उत्साहित है. एक लंबे समय से निराशा पूर्ण जीवन जी रहे किन्नर समाज को इस फैसले से आशा की किरण दिखी है और जीवन में आगे बढ़ने का अवसर प्राप्त हुआ है.

गुरु रहमान ने बताया कि समाज किन्नरों के बारे में कोई भी विचार रखें, वह इससे इत्तेफाक नहीं रखते हैं. उनका मानना है कि समाज इंसानों से मिलकर बनता है और किन्नर भी इंसान है. इसलिए उनके पास पढ़ाई करने आने वाले सभी किन्नर उनके बेटे और बेटी की तरह है. बिहार सरकार ने पुलिस की नौकरियों में जब किन्नरों के लिए रिजर्वेशन का प्रावधान किया. जिसके बाद से उनके पास काफी संख्या में किन्नर छात्र-छात्राएं पहुंचे. जो शिक्षा प्राप्त करना चाहते थे.उम्मीद है कि आने वाले कुछ सालों में ट्रांसजेंडर भी महिला और पुरुषों के साथ बराबरी से कंधे से कंधा मिलाकर चल सकेंगे. वर्तमान समय में भी काफी संख्या में उच्च शिक्षा प्राप्त कर चुके किन्नर समाज में मौजूद हैंसरकार की तरफ से उन लोगों को सरकारी नौकरियों में भी मौका दिया गया है

Leave a Comment

19 − = 16