बाधामुक्त चुनाव के राष्ट्रीय कंसलटेशन में बिहार से भाग लेंगी विकलांग अधिकार मंच की अध्यक्ष कुमारी वैष्णवी

बिहार राज्य में विकलांगों के अधिकारों, विकास, जागरूकता एवं सहभागिता पर कार्य करने वाला संगठन विकलांग अधिकार मंच की अध्यक्षा कुमारी वैष्णवी, भारतीय चुनाव आयोग नई दिल्ली द्वारा आयोजित पहली राष्ट्रीय कंसल्टेशन में बतौर विकलांगता विशेषज्ञ बिहार राज्य चुनाव आयोग द्वारा बिहार राज्य का प्रतिनिधित्व करेंगी। यह राष्ट्रीय कन्सल्टेशन 3 व 4 जुलाई 18 को होगा। इसमें 30 राज्यों एवं केन्द्रशासित प्रदेशो से एक-एक विशेषज्ञ को आमंत्रित किया गया है। भारत के मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत कार्यक्रम का उद्घाटन करेंगे। लोकसभा एवं विधानसभा चुनावों को पूरी तरह बाधारहित बनाने और चुनाव प्रक्रिया में विकलांगों को शामिल करने के लिए चुनाव आयोग द्वारा इतिहास में पहली बार बड़े पैमाने पर तैयारियां की जा रही हैं। इसके अंतर्गत चुनाव आयोग के निर्देश पर बिहार राज्य समेत सभी राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशो में राज्यों के चुनाव विभाग ने राज्य स्तरीय कार्यशालाएं कर के विकलांगजनों को चुनाव प्रक्रिया में शामिल करने पर गहन विचार विमर्श किया था। अब 3-4 जुलाई 18 को हो रहे राष्ट्रीय कन्सल्टेशन में विकलांगता विशेषज्ञ एवं निर्वाचन आयोग के वरिष्ठ अधिकारी गहन मंथन करके विकलांगजनों के लिए चुनावों में बाधारहित वातावरण तैयार करने एवं उन्हें चुनाव प्रक्रिया से जोड़ने की रणनीति तैयार करेंगे। मालूम हो कि बिहार में बाधारहित चुनावी व्यवस्था के लिए 2008 से ही विकलांग अधिकार मंच द्वारा विकलांगो को जागरूक व चुनाव आयोग से पहल करते रहे है जिसमे चुनावों में सभी मतदान केंद्रों पर स्थाई एवं अस्थाई रैंप के साथ-साथ रेलिंग की व्यवस्था की गई थी, तब से बिहार में विकलांगजन जागरूक होते गए व चुनाव आयोग दिव्यांगता के विषय पर काफी गंभीर है।विकलांग अधिकार मंच 2008 दे दिव्यांग जनों के सशक्तिकरण हेतु कार्य कर रहा है एवं राष्ट्रीय विकलांग मंच के तहत देश के 11 राज्यों में अपना संगठन तैयार कर दिव्यांग जनों के अधिकारों के लिए पैरवी सशक्तिकरण के लिए जागरूकता कार्यक्रम जैसे अनेकों अभियान चलाया जा रहा है।यह जानकारी मंच के सचिव दीपक कुमार ने दी।

Leave a Comment

30 − = 20