जबतक 10 लाख नौकरी नहीं दिला देते चैन से नहीं बैठेंगे-तेजस्वी

लोकसभा चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार विधानसभा चुनाव से पहले बिहार में 10 लाख लोगों को नौकरी देने का वादा किया था। मुख्यमंत्री के इस वादे को पूरा करने के लिए डबल इंजन सरकार ने काम शुरू कर दिया गया है। जल्द ही विभिन्न विभागों में बंपर बहाली निकलने वाली है। हालांकि पिछली सरकार में डिप्टी सीएम रहे तेजस्वी यादव ने एक बार फिर दावा कर दिया है कि यह सारा काम उनके डिप्टी सीएम रहते ही हुआ है और उनके दबाव में ही आकर सरकार ने पौने पांच लाख बहाली करने का फैसला लिया है। लोकसभा चुनाव के दौरान एक तरफ जहां तेजस्वी यादव दावा करते रहे हैं कि उनकी पहल पर ही बिहार में लाखों शिक्षकों की बहाली हुई है।हालांकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का कहना है कि तेजस्वी झूठा प्रचार कर रहे हैं और उनके द्वारा किए गए काम का क्रेडिट लेने के लिए चुनावी सभाओं में भ्रम फैला रहे हैं।

पटना के सभी स्कूल इस दिन तक रहेंगे बंद, भीषण गर्मी को लेकर DM ने जारी किया आदेश

जेडीयू ने तो स्पष्ट तौर पर कह दिया है कि बिहार में जो लाखों शिक्षकों की बहाली हुई है, उस फाइल पर तेजस्वी का नहीं बल्कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का साइन है। अब जब एक बार फिर बिहार में बंपर बहाली होने जा रही है तो तेजस्वी यादव ने फिर से दावा कर कर दिया है कि उनकी ही चेतावनी का नतीजा है कि सरकार खाली पड़े शिक्षकों के पदों पर बहाली करने जा रही है। तेजस्वी यादव ने अपने एक्स पर लिखा है कि, ‘𝟏𝟕 महीने सरकार में रहकर, सरकार से हटने के बाद से लेकर पूरे चुनाव प्रचार में भी निरंतर बताया और लगातार माँग की है कि हमने 𝟏𝟕 महीनों में 𝟓 लाख नौकरियां देने के अलावा सभी विभागों में रिक्तियों को भरने के आदेशानुसार उस वक़्त तक 𝟑 लाख से अधिक नौकरियां प्रक्रियाधीन करवाई थी’। तेजस्वी ने आगे लिखा, ‘हमने सरकार को चेतावनी दी थी कि आचार संहिता हटते ही पूर्व से ही विज्ञापित तीसरे चरण में 𝟏 लाख शिक्षकों की यथाशीघ्र भर्ती के अलावा 𝟑 लाख से अधिक रिक्त पदों पर तत्काल नियुक्ति प्रक्रिया शुरू की जाए। जब तक बिहार के युवाओं को 𝟏𝟎 लाख नौकरियों का कमिटमेंट पूरा नहीं करेंगे, न चैन से बैठेंगे और न ही सरकार को बैठने देंगे। हमारा संकल्प, हमारा प्रण हम करेंगे और करायेंगे पूर्ण’।

Leave a Comment

85 − 81 =