65वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार वितरण समारोह

दिल्ली में गुरुवार को आयोजित 65वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार वितरण समारोह का करीब 70 विजेताओं ने बहिष्कार किया। राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार के 64 साल के इतिहास में पहली बार ऐसी घटना हुई हैं।सभी 125 विजेताओं को राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द के हाथों पुरस्कार नहीं दिलवाने के विरोध में यह कदम उठाया।विज्ञान भवन में हुए आयोजन के शैड्यूल में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मौजूदगी सिर्फ एक घंटे की थी। उन्होनें सिर्फ 11 लोगों को पुरस्कार दिया,बाकि को राष्ट्रपति के आने से पहले ही सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मति ईरानी और उनके जूनियर मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने पुरस्कार प्रदान किए।राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार में अभी तक की परंपरा के अनुसार राष्ट्रपति ही सभी विजेताओं को पुरस्कार देते आए है।जानकारी मिलने पर एक दिन पहले ही 70 लोगों ने सरकार व राष्ट्रपति को पत्र लिखकर नहीं आने की चेतावनी दी थी।

Leave a Comment

84 − 74 =