बशिष्ठ नारायण सिंह ने ‘‘अकलियती बेदारी कारवां’’ को झंडी दिखाकर किया रवाना

पटना : जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सह मा0 राज्यसभा सदस्य श्री बशिष्ठ नारायण सिंह ने आज पटना स्थित अपने आवास से जदयू नेता एवं राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आरक्षण मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हाजी मो. परवेज सिद्दीकी के नेतृत्व में निकलने वाले ‘‘अकलियती बेदारी कारवां’’ को झंडी दिखाकर रवाना किया। इस मौके पर पूर्व विधायक श्री प्रभुनाथ राम, जदयू के प्रदेश महासचिव श्री सैयद नजम, जदयू अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष श्री राजेश त्यागी, जदयू नेता श्री तबरेज सिद्दीकी, श्री इरफान अहमद, श्री नुरूल होदा, मो. मिराज अहमद, श्री अख्तर अंसारी, श्री अताउर रहमान (मुखिया), मो. फैज अहमद, मौलाना सुल्तान रजा कादरी, मौलाना मकबूल अली, श्री शकील अंसारी श्री पूरण सिंह आदि मौजूद रहे।

हेमंत सोरेन से ED इस दिन कर सकती है पूछताछ

 बशिष्ठ नारायण सिंह ने इस मौके पर हाजी मो. परवेज सिद्दीकी एवं उनकी टीम को शुभकामना देते हुए कहा कि यह बेहद खुशी की बात है कि अल्पसंख्यकों के बीच जागरुकता लाने और मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में हुए विकास कार्यों, खासकर अल्पसंख्यक कल्याण के क्षेत्र में हुए कार्यों को उन तक पहुँचाने के उद्देश्य से यह यात्रा निकाली जा रही है। उन्होंने कहा कि श्री नीतीश कुमार ने अल्पसंख्यकों के सर्वांगीण उत्थान के लिए बिहार में जो किया वह पूरे देश के लिए नजीर है। अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा के लिए बिहार राज्य अल्पसंख्यक आयोग का गठन हो, अल्पसंख्यक कल्याण की योजनाओं के लिए राज्य स्तर पर स्वतंत्र निदेशालय की स्थापना हो, बिहार राज्य अल्पसंख्यक वित्त निगम द्वारा अल्पसंख्यकों के स्वरोजगार हेतु ऋण की व्यवस्था हो दृ ये तमाम कार्य श्री नीतीश कुमार ने ही किए। अल्पसंख्यक कल्याण विभाग का जो बजट 2004-05 में मात्र 3.45 करोड़ रु. था, वो 2022-23 में 200 गुणा से भी अधिक बढ़कर 700 करोड़ रु. हो गया।

बिहार में इन्हें भी मिली नई मंत्रिमंडल में जगह

श्री बशिष्ठ नारायण सिंह ने आगे कहा कि श्री नीतीश कुमार के कार्यकाल में तालीमी मरकज द्वारा अल्पसंख्यक बच्चों के लिए प्रारंभिक शिक्षा की व्यवस्था, मदरसों का आधुनिकीकरण, अल्पसंख्यक समाज की बेटियों के व्यावसायिक कौशल के लिए ‘हुनर’ एवं ‘औजार’ कार्यक्रम, सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना के तहत यूपीएससी एवं बीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा पास करने पर क्रमशः 1 लाख एवं 50 हजार की प्रोत्साहन राशि, उद्यमी योजना के तहत 10 लाख रुपये तक का ब्याजमुक्त ऋण जैसे महत्वपूर्ण कार्यों की लम्बी फेहरिस्त है। इतना ही नहीं, मा0 मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार के कार्यकाल में बिहार में साम्प्रदायिक दंगे की एक भी घटना नहीं हुई और कब्रिस्तानों की घेराबंदी जैसे कार्य मील के पत्थर साबित हुए।

नीतीश के इस्तीफे के बाद पटना में लग गया पोस्टर, नीतीश सबके हैं…कोटि-कोटि बधाई

हाजी मो. परवेज सिद्दीकी ने कहा कि अकलियतों का मा0 मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार से बड़ा हिमायती कोई नहीं। ‘‘अकलियती बेदारी कारवां’’ के तहत अकलियतों के जीवन-स्तर को सुधारने और उन्हें विकास की मुख्यधारा में लाने वाली तमाम योजनाओं की जानकारी जन-जन तक पहुँचाई जाएंगी और उन्हें जागरुक किया जाएगा। पहले चरण में यह यात्रा सीमांचल के चार जिलों – पूर्णिया, कटिहार, अररिया और किशनगंज – से होकर गुजरेगी।

Leave a Comment

2 + 4 =