जननायक कर्पूरी ठाकुर के अधूरे सपनों को नीतीश कुमार ने पूरा किया – उमेश सिंह कुशवाहा

पटना: सोमवार को मधुबनी जिला के लौकहा विधानसभा में जनता दल (यू0) की ओर से जननायक कर्पूरी चर्चा कार्यक्रम का आयोजन हुआ। कार्यक्रम में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा बतौर मुख्यातिथि शामिल हुए। इसकी अध्यक्षता लौकही के प्रखंड अध्यक्ष श्री विनोद कुमार मंडल एवं मंच का संचालन खुटौना के प्रखंड अध्यक्ष देवदत्त साह ने किया।

बिहार की जनता BJP, नीतीश और लालू से है त्रस्त, चाहती है नया विकल्प:- प्रशांत किशोर

कार्यक्रम में मुख्य रूप से माननीय सांसद श्री रामप्रीत मंडल, पूर्व मंत्री  लक्ष्मेश्वर राय, माननीय विधायक  गुंजेश्वर शाह, पूर्व विधायक  सतीश शाह,  रंजीत साहनी,  वासुदेव कुशवाहा,  रणविजय कुमार, मोहम्मद जमाल, रंजीत कुमार झा,  श्याम राय, श्रीमती वीणा सिंह कुशवाहा,  रामबाबू कुशवाहा,  मोहम्मद बाकी,  संजीव झा,  फुले भंडारी,  कमलकांत भारती,  अब्दुल कयूम,  पंकज कुमार सिंह,  विजय कुमार सिंह,  मोहन सदाय,  राज नारायण सिंह यादव,  राजकुमार, तजमुल हुसैन,  हीरा मांझी,  संजय कुमार सिंह मौजूद रहे।

लंबी दूरी के बसों के लिए बिहार सरकार की नई गाइडलाइन, जानिए क्या है नया निर्देश

अपने संबोधन में  उमेश सिंह कुशवाहा ने कहा कि जननायक कर्पूरी ठाकुर जीवनपर्यंत शोषित और वंचित समाज को विकास की मुख्यधारा में जोड़ने के लिए प्रयासरत रहे। उन्होंने राजनीति को जनसेवा का माध्यम बनाया। मुख्यमंत्री रहते हुए जननायक कर्पूरी ठाकुर ने अपने कार्यकाल में कई ऐसे महत्वपूर्ण निर्णय लिए जिसका सीधा फायदा समाज के अंतिम पंक्ति पर खड़े दलित, पिछड़ा और अतिपिछड़ा समुदाय को हुआ। महिलाओं को सशक्त बनाने में भी उनका प्रयास प्रसंशनीय था। प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि 24 जनवरी को पार्टी राजधानी पटना के वेटनरी कॉलेज मैदान में जननायक कर्पूरी ठाकुर के 100वीं जयंती समारोह मनाएगी। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम को सफल और ऐतिहासिक बनाने के लिए पार्टी के प्रत्येक कार्यकर्ता अभी से ही पूरे तन-मन से जुट जाएं।

 उमेश सिंह कुशवाहा ने कहा कि हमारे नेता जननायक कर्पूरी ठाकुर के कदम चिन्हों पर चलकर उनके अधूरे सपनों को पूरा करने में दिन-रात लगे हुए हैं। यह हम सभी के लिए गौरव का विषय है कि नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार में जातीय गणना का काम पूरा हुआ और हमारे नेता कोई भी काम आधा-अधूरा नहीं छोड़ते हैं। जातीय गणना के तुरंत बाद उन्होंने आरक्षण के दायरे को भी बढ़ाने का युगान्तकारी फैसला लिया। साथ ही सरकार आर्थिक रूप से कमजोर वर्गाे को भी सबल बनाने के लिए कल्याणकारी योजनाएं बना रही है।

उन्होंने कहा कि एक तरफ़ हमारे नेता वंचित-शोषित वर्गाे को उनका वाजिब हक दे रहे है वहीं दूसरी ओर भाजपा हकमारी कर रही है। मोदी सरकार द्वारा षडयंत्रपूर्वक डॉ0 भीमराव अंबेडकर के संविधान को मिटाने का प्रयास हो रहा है। दलित, पिछड़ा और शोषित वर्गों को जो संवैधानिक अधिकार दिया गया है उससे भी छिनने के लिए भाजपा आमादा है। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि 2024 में भाजपा को सत्ता से बाहर करने का संकल्प हमारे नेता ने लिया है। वो विपक्षी एकता की धुरी बनकर उभरे हैं। नीतीश कुमार ने भाजपा मुक्त भारत बनाने का जो संकल्प लिया है उसे साकार करने के लिए एकजुट और जागरूक होना है।

Leave a Comment

7 + 1 =