एनसीपी नेताओं ने कारखाना गेट पर किया आक्रोशपूर्ण प्रर्दशन

उपमुख्य सामग्री प्रबंधक प्रवीर मजूमदार जैसे भ्रष्ट और मनबढ़ू पदाधिकारी ना सिर्फ रेलवे के राजस्व को गंभीर क्षति पहुंचा रहे हैं बल्कि जमालपुर रेलवे कारखाना के अस्तित्व पर भी खतरा साबित हो रहे हैं। इसलिए डिप्टी भंडार मजूमदार को हर हाल में विभागीय और कानूनी तौर पर दण्डित कराना ही होगा।
उपर्युक्त बातें एनसीपी श्रमिक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष संजय केशरी ने रेलवे कारखाना गेट पर एनसीपी कार्यकर्ताओं के साथ बायोमीट्रिक उपस्थिति घोटाले के दोषी प्रवीर मजूमदार के खिलाफ आक्रोशपूर्ण प्रर्दशन करते हुए कहा। हाथों में स्लोगन लिखी तख्तियों के साथ प्रदर्शन कर रहे एनसीपी कार्यकर्ताओं ने “मुखेर कानून चोलवे ना – दारु डांस चोलबे ना”, “बायोमीट्रिक घोटाले के दोषी पी मजूमदार को बर्खास्त करो”, “मजूमदार के बंगले पर रेलकर्मी काम कैसे कर रहा है जवाब दो”, “स्क्रैप घोटालेबाजों से मजूमदार के संबंधों की उच्चस्तरीय जांच हो”, “मजूमदार द्वारा सभी शॉप स्थानांतरण वापस लो” आदि नारे लगा रहे थे। इस अवसर पर उपस्थित कार्यकर्ताओं और रेलकर्मियों को संबोधित करते हुए एनसीपी नेता संजय केशरी ने कहा कि डांस-दारु के शौकीन बेलगाम पदाधिकारी साबित हो रहे मजूमदार अपने अधीनस्थ कर्मियों से अपने आवास पर निजी कार्य कराकर ना सिर्फ रेलवे के राजस्व का भारी नुकसान किया है

और कारखाना के कार्यसंस्कृति को तहस-नहस किया है बल्कि जमालपुर रेलवे कारखाना के अस्तित्व के साथ खिलवाड़ करने का गंभीर अपराध किया है जिसके लिए उन्हें माफ नहीं किया जा सकता है। महिला नेत्री संयुक्ता कुमारी तथा सोनी सिन्हा ने कहा कि जमालपुर रेलवे कारखाना इस क्षेत्र की आर्थिक रीढ़ है जिस पर मजूमदार जैसे भ्रष्ट पदाधिकारी चोट करके पूरे क्षेत्र की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाने का अक्षम्य अपराध कर रहे हैं। इस अवसर पर प्रदेश महासचिव राजीव शर्मा, दयानंद यादव, आजाद शर्मा, संजीव कुमार, अजय सिन्हा, शंकर यादव, ललन बिंद, चन्दन गुप्ता, रतन सिन्हा, निरंजन कुमार गुप्ता, मनोज साह, बबलु गुप्ता सहित अनेकों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Report by;- Vivek kumar

Leave a Comment

− 1 = 8